Friday, May 7, 2021
Home हेल्थ सेहत : गिलोय मानव जाति के लिये है जब जान पर...

सेहत : गिलोय मानव जाति के लिये है जब जान पर बनी तो समझ में आ रही है गिलोय की अहमियत

सेहत : गिलोय एक आयुर्वेदिक रसायन है। गिलोय को ज्वर नाशक, अमृता अथवा अमृत वल्ली के नाम से जाना जाता है। गिलोय की एक लता होती है जो कभी नहीं सूखती है। या हमेशा गीली या हरी रहती है। बाहर से सूखी दिखने वाली गिलोय अंदर से गीली रहती है। गिलोय के पत्ते स्वाद में कड़वे एवं कसैले होते है। यह वेल मुख्य रूप से नीम के पेड़ पर चढ़ाई जाती है, जिससे इसके गुणों में और भी वृद्धि हो जाती है। गिलोय के पत्ते पान के पत्ते के आकार में तथा इसका फल चना या मटर के दाने जैसा होता है।

गिलोय एक चमत्कारिक आयुर्वेदिक औषधि है, यह पृथ्वी पर एक वरदान के रूप में है। गिलोय से वात, कफ, पित्त, बुखार, पाचन क्रिया, नेत्र ज्योति आदि में मुख्य रूप से लिया जाता है। इसके अलावा गिलोय का प्रयोग जलन, मधुमेह (डायबिटीज), कुष्ठ रोग, पीलिया, वीर्य वृद्धि, बुद्धि वृद्धि, खांसी, बवासीर, टी.बी., मूत्र रोग एवं महिलाओं में शारीरिक कमजोरी, मनुष्य की इम्युनिटी बढ़ाने में कारगर सिद्ध होती है। यह औषधि शरीर के किसी भी हिस्से में उत्पन्न होने वाले कीटाणुओं का विनाश कर देती है और रोगों से हमारी रक्षा करती है।

कब-कब कर सकते हैं गिलोय का सेवन

अगर आप अपनी इम्यूनिटी बूस्ट करना चाहते हैं तो रोजाना इसका सेवन कर सकते हैं। इसके लिए आप गिलोय का काढ़ा, गोली या फिर जूस पी सकते हैं।
अगर आपको बुखार हैं तो इसका काढ़े का सेवन कर सकते हैं। इसके अलावा आप गिलोय घनवटी पानी के साथ दिन में दो बार खाने के बाद लें।

हमेशा जवां दिखने के लिए नियमित रूप से इसका सेवन करें

अस्थमा की समस्या हैं तो इसका सेवन कारगर साबित हो सकता है। गिलोय में एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण पाएं जाते हैं जो आपकी सांसों से संबंधित रोगों से आराम दिलाने में मदद करता है। इसके लिए आप गिलोय के पाउडर को मुलेठी पाउडर और शहद के साथ मिलाकर दिन में दो बार सेवन करें।
गिलोय में एंटी-आर्थराइटिक गुण पाए जाते हैं जो गठिया जैसे रोगों में काफी कारगर है। इसके लिए आप गिलो का जूस या फिर काढ़ा का सेवन कर सकते हैं।

पाचन तंत्र को फिट रखने के लिए इसका सेवन करें

अगर डेंगू के कारण आपके प्लेटलेट्स कम हो गए हैं तो इसका सेवन करके आसानी से इन्हें बढ़ा सकते हैं। इसके लिए रोजाना गिलोय का जूस दिन में दो बार पिएं।
अगर आप अपना शुगर कंट्रोल करना चाहते हैं तो इसका सेवन कर सकते हैं। इसके लिए आप गिलोय का जूस और चूर्ण का सेवन कर सकते हैं।
अगर आपको काफी दिनों से खांसी आ रही हैं तो गिलोय का सेवन कर सकते हैं। इसके लिए आप गिलोय के काढ़े का सेवन करें।
अगर शरीर में खून की ज्यादा कमी हैं तो इसका सेवन करें। इसके लिए आप गिलोय के जूस को शहद का पानी के साथ दिन में 2 बार करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

पतरातु डैम से जिस युवती की मिली लाश, वह निकली हजारीबाग मेडिकल काॅलेज की छात्रा

आवाज डेलीहजारीबाग । पतरातू डैम में 26 वर्षीया जिस युवती का हांथ- पैर बांधकर उसकी लाश डैम में फेंक दिया गया था,...

हज़ारीबाग नगर निगम के प्रधान लिपिक का निधन

आवाज डेलीहज़ारीबाग। नगर निगम के प्रधान लिपिक संजय कुमार का शुक्रवार को निधन हो गया। 45 वर्षीय संजय हनुमान मंदिर के पास...

एक सेवानिवृत पुलिस अधिकारी के प्रति विभाग बना अंजान

आवाज संवाददाता हजारीबाग। नौकरी में रहते हुए जिस पुलिस अधिकारी ने विभाग को अहमियत दी उन्हीं के लिये विभाग...

इचाक में अज्ञात हमलवारों ने युवक पर गोली चलायी, घायल

आवाज डेलीइचाक : सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के नजदीक मुख्य सड़क पर बुधवार रात करीब नौ बजे अज्ञात हमलवारों गोली चलाई। इस सम्बंध...

Recent Comments

error: Content is protected !!