Friday, July 30, 2021
Home स्थानीय खबरें राहत इंदौरी का निधन की खबर से दुखी हैं शहर में उनके...

राहत इंदौरी का निधन की खबर से दुखी हैं शहर में उनके प्रशसंक

2016 और 2018 में हज़ारीबाग में किये थे कार्यक्रम

आवाज टीम
हज़ारीबाग ।
अब कहाँ ढूढ़ने जाओगे हमारे कातिल, आप तो कत्ल का इल्जाम अब हमी पे रख दो।

नज़र तो मिला जवाब तो दे, मैं कितनी बार लुटा हूं हिसाब तो दे

शहर में तो बारूदों का मौसम है, गांव चलो वहां अमरुदो का मौसम है

गजब की प्रस्तुति, उसे पेश करने का जबरदस्त और दमदार अंदाज़, जिसने हज़ारीबाग के उन सैकड़ों दर्शकों को मुरीद बना दिया था ।

यह कला फनकार राहत इंदौरी ने अपनी प्रस्तुति की बदौलत दिखायी थी । लोगों ने देखा कि कैसै उनकी बुलंद आवाज़ और रोमांटिक शायरी श्रोताओं को बांधे रखती है ।

पहली बार 2016 को कोनार महोत्सव में और दूसरी बार 2018 में एक अखबार के कार्यक्रम में उनकी प्रस्तुति ऐसी समां बांध गयी थी, जिसने आज तक लोगों को प्रभावित कर रखा है ।

तभी उनके निधन पर कुछ खोने का दर्द का अहसास यहां के लोग भी कर रहें हैं ।

कोनार महोत्सव में तो उनका कार्यक्रम देर रात तक विभावि के विनोदिनी तरवे पार्क में खुले आसमान के नीचे चला और ठंड में भी उनकी शायरी ने लोगों को इस प्रोग्राम में अंत तक बैठने को मजबूर कर दिया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

झारखंड के सियासत की हांडी में फिर पक रही खिचड़ी, खेला होबे

रांची/ हज़ारीबागझारखंड की हेमंत सोरेन सरकार पर खतरा मंडरा रहा है। क्योंकि झारखंड के सियासत की हांडी में एकबार फिर पक रही खिचड़ी। खेला...

पतरातु डैम से जिस युवती की मिली लाश, वह निकली हजारीबाग मेडिकल काॅलेज की छात्रा

आवाज डेलीहजारीबाग । पतरातू डैम में 26 वर्षीया जिस युवती का हांथ- पैर बांधकर उसकी लाश डैम में फेंक दिया गया था,...

हज़ारीबाग नगर निगम के प्रधान लिपिक का निधन

आवाज डेलीहज़ारीबाग। नगर निगम के प्रधान लिपिक संजय कुमार का शुक्रवार को निधन हो गया। 45 वर्षीय संजय हनुमान मंदिर के पास...

एक सेवानिवृत पुलिस अधिकारी के प्रति विभाग बना अंजान

आवाज संवाददाता हजारीबाग। नौकरी में रहते हुए जिस पुलिस अधिकारी ने विभाग को अहमियत दी उन्हीं के लिये विभाग...

Recent Comments

error: Content is protected !!