Thursday, October 21, 2021
Home राज्य झारखण्ड जब नहीं दिया ध्यान तो खुद बना लिया लकड़ी और बांस का...

जब नहीं दिया ध्यान तो खुद बना लिया लकड़ी और बांस का पुल

राशन प्राप्त कर खुशी- खुशी इस पुल पर से होकर लौटते ग्रामीण

गणेश मेहता
इचाक। प्रखंड मुख्यालय से करीब 30 किलोमीटर दूर घने जंगलों के बीच बसे बभनी- बांका के लोग वर्षों से सोती नदी पर एक छोटे पूल की मांग कर रहे थे । इस बार लॉकडाउन में करते हैं। मानव विकास संस्था की पहल पर और गूंज संस्था के प्रोत्साहन से खुद बना लिया लकड़ी और बांस का पुल । आज यह पूल बन पाया तो ग्रामीण मानव विकास के बिरबल प्रसाद और गूंज के सुरेश कुमार और अजीत कुमार का आभार मान रहे हैं । पूल बनने के बाद संस्था द्वारा बांटी गई राहत सामग्री इसी पूल के सहारे महिलायें खुशी- खुशी लेकर निकली । इचाक और बरकट्ठा प्रखंड के सीमा पर बसा है। अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति के करीब 80 घर है। यहां के लोग कृषि के अलावा आस पास के इलाकों में जाकर मजदूरी कर अपना जीवनयापन करते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

निवर्तमान एसपी कार्तिक एस को दी गई भावभीनी विदाई, समारोह

हज़ारीबाग(आवाज़ डेली)। रविवार की देर शाम शुरू हुआ पूर्व एसपी कार्तिक एस का विदाई समारोह रात्रि पौने 11 बजे तक चला। जिसमें...

बड़कागांव के पूर्व विधायक के चालक की जमीन विवाद में गोली मारकर हत्या

हज़ारीबाग (आवाज़ डेली)। बड़कागांव के पूर्व विधायक लोकनाथ महतो के चालक राहुल साव की जमीन विवाद में गोली मारकर रविवार की देर शाम...

झारखंड के सियासत की हांडी में फिर पक रही खिचड़ी, खेला होबे

रांची/ हज़ारीबागझारखंड की हेमंत सोरेन सरकार पर खतरा मंडरा रहा है। क्योंकि झारखंड के सियासत की हांडी में एकबार फिर पक रही खिचड़ी। खेला...

पतरातु डैम से जिस युवती की मिली लाश, वह निकली हजारीबाग मेडिकल काॅलेज की छात्रा

आवाज डेलीहजारीबाग । पतरातू डैम में 26 वर्षीया जिस युवती का हांथ- पैर बांधकर उसकी लाश डैम में फेंक दिया गया था,...

Recent Comments

error: Content is protected !!